नाइट्रोजन स्थितिकरण जेव कल्चर

नाइट्रोजन स्थितिकरण जेव कल्चर


जेब कल्चर सूक्ष्म जीवों व कोशिकाओं का एक रूप है जिसे वह भी कर सकते हैं जहां एक तरल मिश्रण होता हैजिसका उपयोग पीजों के उपचार में तथा पौधों के उव्रक के रूप में किया जाता हैं यह सूक्ष्मजीव वायुमंडल में उपस्थित नाइट्रोजन को भूमि में स्थिर करते हैं इसे पौधा अपनी जड़ों की सहायता से ग्रहण कर पाता है वह कहीं और घुलनशील पदार्थों को घुलनशील में परिवर्तित करते हैं यह सूक्ष्मजीव जिससे पौधे उन्हें आसानी से ग्रहण कर पाए वह भूमि में पड़े अवशेषों को बजाते हैं जिससे मिट्टी की उपजाऊ शक्ति बढ़ सके वह फसल उत्पादन अधिक हो



एजोटोबेक्टर

एजोटोबेक्टर एक सूक्ष्म जीव है एजोटोबेक्टर खाद्य फसलों में नाइट्रोजन स्थिरीकरण का कार्य करता है यह ना सिर्फ नाइट्रोजन स्थिरीकरण बल्कि पौधों में वृद्धि और विकास करने वाले पदार्थ का भी पोषण करता है यह सभी प्रकार के फल और सब्जियों में कार्य करते हैं यह बीजों में अंकुरण की क्षमता भी बढ़ाता है वह 15 से 25% तक फसल की पैदावार के लिए नाइट्रोजन उपयोगी हैं यह विभिन्न प्रकार की फफूंद से होने वाले रोगों से बचाता है वह भूमि की सरस ना में भी सुधार होता है एजोटोबेक्टर 1 किलो पर 100 किलोग्राम बीज उपचार के लिए उपयोग में लिया जा सकता है इसके और भी कई अनेक फायदे हैं इनसे फसल में उत्पादन में वृद्धि होती हैं


राईजोबियम

राईजोबियम कल्चर सबसे अधिक उपयोग होने वाला जैविक कल्चर है यह सूक्ष्मजीव अधिकतर दलहनी फसलों में नाइट्रोजन स्थिरीकरण के कार्यकर्ता है दलहनी फसलों की जड़ों में घाटों के रूप में पाया जाने वाला सूक्ष्मजीव राइजोबियम है यह वायुमंडल में उपस्थित नाइट्रोजन को ग्रहण कर फसलों की जड़ों तक पहुंचाता है राइजोबियम की 1 किलो मात्रा 100 किलो बीज के उपचार तक उपयोग में लाई जा सकती है किंतु ध्यान रखें कि बीच को किसी रासायनिक फंगीसाइड से उपचार नहीं किया गया हो यह एक प्राकृतिक उवरक है नाइट्रोजन स्थिरीकरण में कार्य करता है वह फसल उत्पादन को बढ़ाता है वह इसके बाद जिन फसलों की बुवाई की जाती है उनमें भी यह मदद करता है






समस्या और सुझाव कमेंट कर बताएं,
इसे अपने किसान भाइयों के साथ भी शेयर करे,